रविवार, 17 फ़रवरी 2013


"कोई भी समाज अपराधियों की सक्रियता की वजह से गर्त में नहीं जाता, बल्कि अच्छे लोगों की निष्क्रियता इसकी असली वजह है इसलिए नायक बनो हमेशा निडर रहो कुछ प्रतिबद्ध लोग देश का जितना भला कर सकते हैं, उतना भला कोई बड़ी भीड़ एक सदी में भी नहीं कर सकती मेरे बच्चों, आग में कूदने के लिए तैयार रहो भारत को सिर्फ उसके हजार नौजवानों का बलिदान चाहिए" 


कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें